Search
Close this search box.

Live TV

Search
Close this search box.

chanakya niti for friendship kaise logon se karen dostee apmp | Chanakya Niti: भूल से भी ऐसी हरकत करने वालों से न करें दोस्ती, हो सकता है बहुत नुकसान

[adsforwp id="60"]

Chanakya Niti: हम जानते हैं कि महान चाणक्य की नीतियों को अगर हम उन्हें आज भी आजमाएं तो हमें जीवन में समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ेगा. बता दें कि जीवन में दोस्ती का बहुत महत्व है और चाणक्य ने दोस्ती के बारे में भी बहुत कुछ लिखा है तो आज हम आपको बताते हैं चाणक्य की नीतियों के अनुसार दोस्ती कैसी होनी चाहिए और किन लोगों से दोस्ती करनी चाहिए. 

सच्चा मित्र कठिन समय में देता है साथ
चाणक्य नीति के अनुसार किसी भी व्यक्ति का सच्चा मित्र वही होता है जो उसके कठिन समय में उसका साथ देता है. अगर आप मुसीबत में हैं तो एक सच्चा दोस्त ही आपके साथ खड़ा होगा और जो सच्चे दोस्त नहीं हैं तो जब आप मुसीबत में होंगे तो ऐसे लोग आपका साथ छोड़ देंगे. इसलिए आपको ऐसे लोगों से ही दोस्ती करनी चाहिए जो आपके बुरे वक्त में आपका साथ दें.

Chanakya Niti: अगर आप जीवन में होना चाहते हैं सफल तो इन तीन कामों को करने से कभी न हिचकिचाएं

सच्‍चे मित्र गलत काम का समर्थन नहीं करते 
आपने गौर किया होगा कि वही आपका सच्चा दोस्त होते हैं. जो आपको अच्छी सलाह देते हैं. इसलिए जब आप कोई गलती करते हैं या आप कोई गलत कदम उठाते हैं, तो वो आपको टोकते हैं और यही लोग आपके सच्चे दोस्त होते हैं. जो लोग आपके मुंह से आपकी प्रशंसा करते हैं और आपके गलत काम का समर्थन भी करते हैं. आपको ऐसे लोगों से कभी दोस्ती नहीं करनी चाहिए क्योंकि ऐसे लोग आपका भला नहीं चाहते. इसलिए वह आपको सही राय नहीं देते हैं. जबकि जो आपका सच्चा दोस्त है वही आपको सही राय देता है क्योंकि वह आपका भला चाहता है. 

मित्रता व्यक्ति के गुण देखकर करें
चाणक्य कहते हैं कि मित्रता किसी भी व्यक्ति के गुण को देखकर ही करनी चाहिए. जो आपका सच्चा दोस्त है और जो आपके बुरे समय में आपके साथ खड़ा रहता है. वो ही आपका दोस्त होना चाहिए. कभी किसी से दोस्ती इसलिए मत करना क्योंकि वो बहुत अमीर है. वह धनवान तो होगा पर आपके किसी काम में नहीं आएगा. ऐसे लोग आपके बुरे वक्त में कभी खड़े नहीं होंगे. बल्कि  कोई एक ऐसा व्यक्ति जो गरीब है, लेकिन आप की केयर करता है. आपको समझता है और आपके बुरे समय में आपके साथ खड़ा होता. ऐसे लोगों से आपको दोस्ती करनी चाहिए.  

मित्रता की लिमिट क्रॉस नहीं करें
चाणक्य नीति के अनुसार दोस्ती को दोस्ती की तरह निभाना चाहिए. दोस्ती की एक सीमा होती है. उसे पार नहीं करना चाहिए. अगर आप अपनी दोस्ती की हद पार करते हैं तो यह आपको मुश्किल में डाल सकता है. यह सही भी नहीं है. आपको वैसे ही संबंध बनाए रखने चाहिए जिसकी जो मर्यादा होती है. 

(Disclamer: यहां दी गई समस्त जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. Zee Media इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

Source link

Leave a Comment

[adsforwp id="47"]
What does "money" mean to you?
  • Add your answer